थाम ज़रा

थाम ले इस पल को
अपनी गरीब सी हथेलियों में
खोल ज़रा जंगज़ा बाहें अपनी
दे न्योता उस आहट को
कह रही है तुझसे जो,
के थाम ज़रा
ये वक़्त, ये पल,
कह रहा है तुझसे
के थाम ज़रा।

भागती से सुईयाँ तेरे हाथों में,
इस जहाँ को समय बताती हैं;
मान ना उस बेईमान घड़ी की ये बातें
जिसकी क़ीमत तेरा वक़्त बताता है।
सुन तू सिर्फ अपनी आरज़ू की
वो कह रही है तुझसे
के थाम ज़रा
ये वक़्त, ये पल,
कह रहा है तुझसे
के थाम ज़रा।

कस ले आज उसे अपनी मुट्ठी में
जो है आज अधूरा सा तेरा;
थाम ले उस वक़्त को आज तू
जो है आज अधूरा सा तेरा

ये वक़्त, ये पल,
कह रहा है तुझसे
के थाम ज़रा।

RidgqG5pT


P.S. I am super happy to announce Shubham Uprit as a contributor on Banjara! His poems are going to be hosted on this blog from time to time. The above poem is his debut poem for Banjara. *Happyness*

Aayushi

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s